Saturday, May 25, 2024

उत्तराखंड सतरुद्रा ट्रस्ट

Reg.No.IV/921/2019

"'समाज और संसार में दया ही श्रेष्ठ धर्म है।' अगर अपने से दीन-हीन, असहाय, अभावग्रस्त, आश्रित, वृद्ध, विकलांग, जरूरतमंद व्यक्ति पर दया दिखाते हुए उसकी सेवा और सहायता न की जाए, तो समाज भला कैसे उन्नति करेगा? सच तो यह है कि सेवा ही असल में मानव जीवन का सौंदर्य और शृंगार है। सेवा न केवल मानव जीवन की शोभा है, अपितु यह भगवान की सच्ची पूजा भी है।"

ट्रस्ट की भविष्य के लिए गतिविधियाँ

  • अब तक की चुनौतियों के निस्तारण के ठोस उपायों को तैयार रखना
  • युवाओं को आगे लाना व नये ट्रस्टियों को सम्मिलित करना
  • ट्रस्ट के लिये धन जुटाना
  • ट्रस्ट द्वारा हर मद में आंवटित राशि का समय पर पूरा खर्च सुनिश्चित करने का उद्देश्य पालन
  • प्राइवेट व कारपोरेट संस्थाओं से सीएसआर के मद से ट्रस्ट के लिए फंड जुटाने का प्रयास करना
  • वर्तमान में चयनित कार्यों को बढ़ावा देना
  • नये कार्यों को अपनाना
  • पहाड़ी क्षेत्र में जीवन यापन के लिए उपेक्षितों, स्व रोजगार के लिए संघर्षरत व महिला सशक्तीकरण के लिए नये कदम उठाना
  • उत्तराखण्ड की मूलतः पारम्परिक कार्यकलापों का संरक्षण व प्रसार
  • प्राथमिकता पर प्रत्येक पहाड़ी ज़िलों के ब्लॉक में सीधे पहुँचे व वहॉ इच्छुक कार्यकर्ताओं को अपना प्रतिनिधि बनायें
  • अप्रत्याशित त्रासदी में ट्रस्ट एकदम कैसे मदद के लिये हरकत करे, रूपरेखा बनाना
  • ज्वलंत मुद्दों पर ध्यानाकर्षण व हर वर्ष कम से कम एक प्रमुख विषय को लेकर लगातार राज्य सरकार को सजग करना
  • अपने लाभार्थियों, लाभित संस्थानों एवं अन्य कार्यक्रमों में प्रचार द्वारा पहुंच और बढ़ा सकते हैं
  • पलायन के कारणों पर रोकथाम के लिए आवश्यक कदम लिये जाएगें
  • सरकारी योजनाओं को लोगों तक पहुंचाने में मददगार बनें